A digital magazine on sexuality in the Global South

Author: Ramya Anand

Categories

How Do We Deal With All the Mixed Messages Kids are Getting?

Attire and Sexuality

बदलती छवियों के साथ बदलती पोशाके

वह एक ऐसे परिवार में बड़ी हुई थीं जहाँ बनने संवरनें की सराहना की जाती थी, इसलिए कपड़ों के प्रति उनकी चाहत को कभी भी विलासिता की तरह नहीं देखा गया। उनकी माँ की शख्शियत की एक विशिष्ट पहचान, उनकी बड़ी सी बिंदी और सूती साड़ी हमेशा अपनी जगह पर रहती थी, चाहे दिन का कोई भी समय हो, चाहे वो खाना बना रहीं हों, धूप या बारिश में बाहर गई हों, सो रहीं हों या बस अभी ही जागी हों, हंस रहीं हों, या रो रहीं हों। उनकी और उनकी बहन के लिए, उनकी माँ की फैशन को लेकर एक ही सलाह थी, “हमेशा ऐसे तैयार होकर रहो जैसे आप बाहर जा रहे हों, भले ही आप सारा दिन घर पर ही हों।” अपनी माँ की सलाह के बावजूद, वह घर पर ‘गुदड़ी के लाल’ की तरह और बाहर जाते वक़्त ‘सिंडरेला’ की तर्ज़ पर चलने वाली बनी।
Attire and Sexuality

Dressing Up Without the Dressing-Down

Then came a time when this small-town simple Sati Savitri-esque girl moved to a big city. Sucked into city fashion, she couldn’t resist skirting sinful hemlines and being trapped in T-shirt tapestry. All her sanctity theories about clothes were thrown in the trash for good. In the process, she happily shed her desi avatar by shedding her saris and proudly embraced the ‘modern’ attire.