A digital magazine on sexuality in the Global South

Categories

Brushstrokes: Dolls Turn Into Real Role Models In the Hands of This Parent

The Many Shades of Parenting and Sexuality

As a society, in our platforms of exchange of goods, products and services, how are we approaching parenting, children or sexuality? Stores are clearly catering to the constructed parent and child. There’s lots of toys, clothes, diapers, bedsheets and cute dangling, fluffy things to cluck at in stores catering to parent and child as a combination thali (platter). The day I see personal and sexual hygiene products in a store catering to mom and a teenaged me, I will kick up my heels and bray.

The Editorial: Migration and Sexuality

Talking about migration would be talking about what happens with the crossing of boundaries. Boundaries of culture and climate, and boundaries of visibility, where a change in semantics can come to render what was invisible visible (an accent, perhaps a way of dressing, one’s values and ideas, the experience of being surveilled as an alien), while also allowing the migrant certain new freedoms to be invisible (anonymity where ‘nobody knows your name’, and certain kinds of agency one may not have enjoyed back home).

महिलाओं का विवाह पश्चात् ‘प्रवसन’ और उससे जुड़े कुछ मुद्दे

यूँ तो विवाह और उससे जुड़े महिलाओं के ‘स्थान परिवर्तन’ को ‘प्रवसन’ का दर्ज़ा दिया ही नहीं जाता है, इसको एक अपरिहार्य व्यवस्था की तरह देखा जाता है जिसमें पत्नी का स्थान पति के साथ ही है, चाहे वो जहाँ भी जाए। पूर्वी एशियाई देशों में, १९८० के दशक के बाद से एक बड़ी संख्या में महिलाओं के विवाह पश्चात् प्रवसन का चलन देखा गया है जिन्हें ‘फॉरेन ब्राइड’ या विदेशी वधु के नाम से जाना जाता है। इन देशों की लिस्ट में भारत के साथ जापान, चीन, ताइवान, सिंगापुर, कोरिया, नेपाल जैसे कई देशों के नाम हैं। यदि विवाह से जुड़े प्रवसन को कुल प्रवसन के आकड़ों के साथ जोड़ा जाए तो शायद ये महिलाओं का सबसे बड़ा प्रवसन होगा।